अपराध

भगवान बुद्ध की ज्ञान स्थली बिहार के गया में जैश-ए-मोहम्मद का आतंकवादी गिरफ्तार

भगवान बुद्ध की ज्ञान स्थली बिहार के गया में जैश-ए-मोहम्मद का आतंकवादी गिरफ्तार

पटना: भगवान बुद्ध की ज्ञान स्थली बिहार के गया से पुलिस ने आज पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी तौफीक रजा उर्फ एजाज अहमद को गिरफ्तार किया है।

पुलिस सूत्रों ने यहां बताया कि पश्चिम बंगाल पुलिस को यह इनपुट मिली थी कि तौफीक गया जिले के मानपुर प्रखंड के बुनियादगंज बाजार के निकट अपनी पहचान छुपाकर कुछ वर्षों से रह रहा है। इसी आधार पर पश्चिम बंगाल के विशेष कार्यबल (एसटीएफ) के साथ आये बंगाल आतंक निरोधक दस्ता (एटीएस) की टीम ने स्थानीय पुलिस के साथ मिलकर उसके घर की रेकी की।

सूत्रों ने बताया कि तौफीक की सही पहचान करने के बाद आज उसके बुनियादगंज बाजार स्थित घर की घेराबंदी की गई। इसके बाद तौफीक को गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तार तौफीक के पास से कई आपत्तिजनक सामान भी बरामद किये गये हैं। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच आतंकी को गया व्यवहार न्यायालय लाया गया है।

सूत्रों ने बताया कि तौफीक वर्ष 2007 से ही आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के लिए काम कर रहा है। पुलिस यह भी पता लगा रही है कि तौफीक के संपर्क में कौन-कौन से स्थानीय लोग थे और तौफीक कहीं अपने संगठन के विस्तार के लिए स्लीपर सेल (संगठन से लोगों को जोड़ने) बनाने के इरादे से तो यहां छुपकर नहीं रह रहा था।

गौरतलब है कि गया हमेशा से आतंकवादियों के निशाने पर रहा है। 05 जुलाई 2013 को गया जिले के बोधगया स्थित महाबोधि मंदिर में सिलसिलेवार बम विस्फोट किये गये थे। इस विस्फोट में कई लोग घायल हो गये थे जबकि कई बमों को बरामद कर निष्क्रिया किया गया था।

महाबोधि मंदिर बम विस्फोट मामले में बाद में हैदर अली, अजहरुद्दीन कुरैशी, उमर सिद्दीकी, इम्तियाज अंसारी और मुजिबुल्लाह को गिरफ्तार किया गया था। इन आतंकवादियों को न्यायालय ने उम्रकैद की सजा सुनाई है।

इसके बाद 14 सितंबर 2017 को पुलिस ने गया के सिविल लाइंस थाना क्षेा से वर्ष 2008 में गुजरात के अहमदाबाद बम विस्फोट के मुख्य आरोपी तौसीफ खान और उसके सहयोगी सना खान को गिरफ्तार कर लिया था। तौसीफ और साना दोनों गया जिले के डोभी थाना क्षेा में करमौनी गांव का रहने वाला बताया गया। हालांकि इनके पास से जो मतदाता पहचान पा बरामद हुये थे वे गुजरात के थे।

वहीं, 19 जनवरी 2018 को महाबोधि मंदिर के गेट संख्या चार के पास से एक कम शक्ति के विस्फोटक और दो बम बरामद किये गये। पुलिस सूाों ने बताया था देर शाम मंदिर परिसर की सफाई के क्रम में महाबोधि मंदिर के गेट संख्या-4 के पास से एक लावारिस थैला मिला। जब वहां तैनात बिहार सैन्य पुलिस (बीएमपी) के हवलदार उपेंद्र प्रसाद राय ने संदिग्ध थैले को देखा तो स्कैनर से उसकी जांच कराई गई।

जांच में उस थैले में विस्फोटक होने की पुष्टि हो गई। इसके बाद परिसर में गहनता से जांच की गयी तब श्रीलंका के मठ के पास से एक अन्य विस्फोटक बरामद हुआ। केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के बम निरोधक दस्ते ने विस्फोटकों को अपने कब्जे में लेते हुए उसे वहां से तत्काल हटा दिया था।

इसके बाद 15 सितंबर 2018 को बोधगया के कालचक्र मैदान से जांच के दौरान राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने एक बम बरामद किया था। एनआईए की टीम जब गिरफ्तार आतंकी मोहम्मद उमर को लेकर बोधगया पहुंची तो उसकी निशानदेही पर कालचक्र मैदान स्थित शौचालय के समीप से छानबीन के क्रम में एक बम बरामद किया गया था।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button