आंध्र प्रदेश

आंध्र प्रदेश विधानसभा बजट सत्र: YS जगन बोले- “तब चंद्रबाबू क्या गधों की रखवाली करने गये थे”?

आंध्र प्रदेश विधानसभा बजट सत्र: YS जगन बोले- “तब चंद्रबाबू क्या गधों की रखवाली करने गये थे”?

विजयवाड़ा: आंध्र प्रदेश विधानसभा बजट सत्र आरंभ हुआ है। विधानसभा सत्र सुबह 9 बजे शुरू हुआ। आपको बता दें कि राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन ने मंगलवार को ही विधानसभा सत्र की अधिसूचना जारी की थी।

मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने सिंचाई परियोजनाओं के निर्माण को लेकर सरकार की नीति को स्पष्ट किया। वाईएस जगन ने बताया कि सरकार प्रदेश में निर्माण किये जा रहे परियोजनाओं के बारे में क्या-क्या कदम उठा रही है।

इसके जवाब चंद्रबाबू ने सरकार की नीति पर अफसोस जताया और कहा कि सरकार की नीति से प्रदेश को नुकसान होने की संभाव है। जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि पड़ोसी राज्य तेलंगाना ने अनेक परियोजनाओं को चंद्रबाबू के शासनकाल में निर्माण किया है। तब चंद्रबाबू ने पड़ोसी राज्य में जारी परियोजनाओं को क्यों नहीं रोका है?

मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने जल सिंचाई परियोजनाओं के निर्माण को लेकर सरकार की नीति को स्पष्ट किया। वाईएस जगन ने बताया कि प्रदेश में निर्माण किये जा रहे परियोजनाओं के बारे में सरकार क्या-क्या कदम उठा रही है।

इसके जवाब चंद्रबाबू ने सरकार की नीति पर अफसोस जताया और कहा कि सरकार की नीति से प्रदेश को नुकसान होने की संभाव है। जवाब में मुख्यमंत्री जगन ने कहा कि पड़ोसी तेलंगाना सरकार ने अनेक परियोजनाओं को चंद्रबाबू के शासनकाल में निर्माण किये हैं। तब चंद्रबाबू ने पड़ोसी राज्य में जारी परियोजनाओं को क्यों नहीं रोका है?

मुख्यमंत्री ने विधानसभा में कहा कि चंद्रबाबू के शासनकाल में तेलंगाना में कालेश्वरम परियोजना का निर्माण किया है। जगन ने गुरुवार को विधानसभा सत्र में कहा,”विपक्ष सवाल कर रहा है कि कालेश्वरम परियोजना के उद्घाटन के लिये क्यों गये है? पड़ोसी राज्य के साथ अच्छे संबंध रहे इसीलिए मैं कालेश्वरम परियोजना के उदघाटन कार्यक्रम में भाग लेने के लिए गया था।

दोनों मुख्यमंत्रियों के बीच अच्छे संबंध रहे यही मेरा उद्धेश्य हैं। हमारे आग्रह को तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर ने सम्मान दिया है। केसीआर ने एक कदम आगे बढ़ाते हुए अपने राज्य का जल देने के लिए राजी हुए।

तेलंगाना की गोदावरी से जल को हमने लिया है। श्रीशैलम, नागार्जुनसागर और कृष्णा से जल को ले आने की कोशिश जारी है। दोनों राज्यों के बीच अच्छे संबंध है। यह हमारे लिए खुशी की बात है। इसके चलते हमें केसीआर प्रति बधाई देने के बजाये क्या आलोचना करना ठीक है?”

मुख्यमंत्री ने आगे कहा, “चंद्रबाबू नायडू जब मुख्यमंत्री थे तब क्या कर रहे थे? तेलंगाना में कालेश्वरम परियोजना का निर्माण जारी था। तब चंद्रबाबू क्या गधों की रखवाली करने गये थे? चंद्रबाबू में सत्ता में थे तब ही कालेश्वरम परियोजना का निर्माण किया गया। उनके दौर में ही आलमट्टी डैम की ऊंचाई बढ़ाने का कार्य आरंभ हुआ था। तेलंगाना के साथ स्नेह भावना से रहना क्या गलत है? दोनों पड़ोसी राज्यों के बीच अच्छे संबंध रहना चाहिए। अच्छे संबंध रहने से ही दोनों राज्यों का विकास संभव है। पिछले दस सालों में कृष्णा जल ठीक से नहीं मिल रहा है।

विधानसभा सत्र आगामी 30 जुलाई तक जारी रहेगा। विधानसभा अध्यक्ष ने सत्र की शुरुआत प्रश्नोत्तर के साथ किया। अध्यक्ष ने इसके बाद स्थगनादेश पर चर्चा करने का सुझाव दिया। विधानसभा सत्र कुल 14 दिन तक जारी रहेगा।

दूसरी ओर मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी की सरकार साल 2019-20 पहला वार्षिक बजट शुक्रवार को सुबह 11 बजे पेश करेगी। वित्तमंत्री बुग्गन राजेंद्रनाथ वार्षिक बजट पेश करेंगे। विधान परिषद में राजस्व मंत्री पिल्ली सुभाष चंद्रबोस वार्षिक पेश करेंगे। साथ ही कृषि बजट को मंत्री कुरसाला कन्नबाबू विधानसभा में पेश करेंगे। विधान परिषद में पशुसंवर्धन मंत्री मोपीदेवी वेंकटरमणा बजट पेश करेंगे।

दूसरी ओर मुख्यमंत्री वाईएस जगन ने बुधवार को मंत्री बुग्गन राजेंद्रनाथ और अधिकारियों के साथ बजट पर समीक्षा बैठक की। बजट में वाईएसआरसीपी की घोषणापत्र के नवरत्नालु कोल अधिक प्रमुखता दी गई है।

पुलिस ने बजट सत्र के चलते कड़े बंदोबस्त किया है। विधानसभा से 10 किलोमीटर दूर तर 144 सेक्शन लागू किया है। गरुडा कमांड कंट्रोल से सीसी कमैरा के जरिए सचिवालय और विधानसभा परिसर की निगरानी की जा रही है।

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button