उत्तर प्रदेश

पीएम मोदी ने देश को 5 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनमी बनाने का संकल्प दोहराया

पीएम मोदी ने देश को 5 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनमी बनाने का संकल्प दोहराया

वाराणसी: प्रधानमंत्री मोदी ने वाराणसी यात्रा के दौरान दीन दयाल हस्तकला संकुल में भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। उन्होंने बजट 2019-20 को आशाओं और उम्मीदों का बजट बताया। साथ ही कहा कि नए संकल्प, नए लक्ष्य भारत को विकसित बनाने की राह लेकर जाएंगे.

देश की पहली पूर्णकालिका महिला वित्त मंत्री ने 5 जुलाई को बजट पेश किया, तो यह पहली बार ही था जब बजट भाषण में आंवटन लेखा-जोखा से ज़्यादा आने वाले सालों में देश की दिशा और लक्ष्य का ज़िक्र रहा।

मकसद साफ है आर्थिक गतिविधियों में सबकी भागीदारी सुनिश्चित तभी देश विकासशील से विकसित की श्रेणी में शामिल होगा। इसके लिए किसानों की आमदनी बढ़ाने के प्रयास जारी हैं।

खाद्य प्रसंस्करण की नई इकाइयों, डेयरी को प्रोत्साहन और हर उपज को सही दाम सुनिश्चित करने के लिए पिछले पांच साल में कई अहम काम हुए हैं। मोदी सरकार 2.0 भी किसानों के लिए एक नई छलांग लगाने को तैयार है।

वाराणसी में भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच प्रधानमंत्री ने एक ओर जहां कृषि क्षेत्र में सुधार, ब्लू इकॉनमी यानि मत्स्य पालन और मछुआरों के लिए नई पहल से आमदनी बढ़ाने को मज़बूत अर्थव्यवस्था के लिए ज़रूरी बताया तो वहीं उन्होने बचत को भी अहम करार दिया।

प्रधानमंत्री ने स्वास्थ्य क्षेत्र में होने वाले अनावश्यक ख़र्च से बचने के लिए योग और पारंपरिक जीवन शैली को बढ़ावा देने पर ज़ोर दिया. उन्होंने कहा कि देश कई क्षेत्र में आयात कम करके भी बचत कर सकता है। प्रधानमंत्री ने नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों के ज़रिए उत्पादन बढ़ाने, बायोफ्यूल का उत्पादन और इस्तेमाल बढ़ाने का भी आह्वान किया. उन्होंने कहा कि देश नए विज़न के मुताबिक जनभागीदारी को बढ़ावा देगा।

अपने संसदीय क्षेत्र की महिमा का बखान करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि काशी में किया गया पुण्य का कभी क्षय नहीं होता। इसी से साथ उन्होने कहा कि आशावादी रूख बड़े मुकाम को हासिल करने की सही दिशा है तो वहीं निराशावादी रूख एक बड़ा रोड़ा। प्रधानमंत्री ने परोक्ष रूप में कटु आलोचकों पर चुटकी भी ली।

देश को नई ऊर्जा और ताक़त की ज़रूरत है और ये सिर्फ और सिर्फ देशवासियों के स्पष्ट उद्देश्य, कुछ ना कुछ देश के प्रति कर्तव्यबोध के ज़रिए ही मुमकिन है। तब जाकर नया भारत समृद्ध, शक्ति संपन्न, ग़रीबी मुक्त, जलशक्ति से भरपूर, स्वच्छ और विकास की अविरल धारा युक्त होगा।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button